Services


AADHAR SERVICES

सीएससी के माध्यम से जीवन प्रमाण सेवाएं उपलब्ध

केंद्र सरकार और कर्मचारी भविष्य निधि से पेंशनर सीएससी के माध्यम से जीवन प्रमाण सेवाओं के प्रमाण पत्र जमा कर सकते हैं।

यह हर साल नवंबर में सामान्य रूप से किया जाता है। सीएससी निम्नलिखित चरणों का पालन करें – • सेवाओं की उपलब्धता के बारे में पोस्टर रखें • जीवन प्रमाण पर पर्चे वितरित करें • स्थानीय मीडिया के माध्यम से पेंशनरों को सूचित करें • भूतपूर्व जिला सैनिक कल्याण अधिकारी से संपर्क और रक्षा पेंशनरों का विवरण दें • वीएलई उनसे संपर्क करें और सीएससी के माध्यम से जीवन प्रमाण प्रस्तुत करने के लिए उनसे पूछ सकते हैं • पुराने और कमजोर पेंशनरों के लिए वीएलई उनके घर पर जाएँ और उनका जीवन प्रमाण बना सकते हैं

iScholar (आईआईटी-जेईई और इंजीनियरिंग ऑनलाइन प्रशिक्षण)

अपना सीएससी के माध्यम से सीएससी एसपीवी iScholar Super 30 के सहयोग से आईआईटी-जेईई और इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा कोचिंग प्रदान करेगा। इसे सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक माना जाता है क्योंकि इसमें भारी सिलेबस के कारण लगातार पेपर पैटर्न बदलता रहता है और कभी भी कट ऑफ प्रतिशत बढ़ जाता है इसलिए सफलता 1% से भी कम होती है। आनंद कुमार , Super30 के शिक्षक अच्छी तरह से जानते हैं कि अपने super30 छात्रों के लिए आईआईटी में प्रवेश हासिल करने में लगभग 100 % सफलता दर को प्राप्त करना है और Super30 इसी के लिए जाना जाता है।

iScholar Super 30 की कुछ प्रमुख विशेषताएं –

• भौतिकी, रसायन विज्ञान और गणित में सामग्री • आनंद कुमार व अन्य विशेषज्ञों द्वारा वीडियो लेक्चरस • विशेषज्ञ शिक्षकों , टेस्ट सीरीज और नकली परीक्षण द्वारा इंटरएक्टिव लाइव सत्र • चैप्टर वॉइज अभ्यास परीक्षण • मासिक आकलन • वन टु वन डाउट क्लेरीफिकेशन सेशन • व्यक्तिगत राय और विश्लेषण • वीडियो टैगिंग के साथ विशेष नोट बनाने की सुविधा • प्रगति चार्ट कि तुमने कितना और क्या सीखा • वीडियो पाठ के लिए ऑफलाइन पहुँच • कम बैंडविड्थ की आवश्यकता • छात्र कभी भी, कहीं भी सीख सकते हैं

फीस : रु 5500/- + सर्विस टैक्स

 

Cattle insurance – an unique initiative:

Livestock sectors are critical for the rural economy, especially the small and marginal farmers. They not only contribute to the farmers’ income but are also their best insurance against any natural calamity. Realizing their importance and contribution to economy as well as to human welfare, Universal Sompo General Insurance has offered Cattle Insurance Policy through CSCs for protection from financial loss due to death and partial disability of the cattle, which is one the most valued possessions of the rural community.

insurance_16august2016_02More than 145 live stocks, predominantly goat, milch cows and buffaloes and bullocks have already been insured in the last two months.

insurance_16august2016_01
Brief on Cattle insurance of USGI
The cattle insurance policy covers animals such as Milch cows, Buffaloes, Studs, Bullocks, Sheep & Goats in sound health and free from injury or disease at the time of insurance. The maximum sum insured has been capped at Rs 2 lakh per policy. However in order to benefit and support the poor and marginal farmers and cattle and other livestock rearer, sum insured per cattle has been kept at Rs 25,000. The limit has been also proposed to curb mis-selling and to provide reasonable benefits to poor sections with less documentation.

The cattle that who are in general used for commercial and/or for personal purposes are covered against the risk of Death due to accident and /or any diseases which the animal may contract during the policy period and/ or Permanent Total Disablement.

Procedure to insure cattle:

Ear Tag No:  Cattle tags are compulsory for policy. Please follow steps for cattle tagging. Step 1: Call customer care of USGIC at 1800-200-4030 (choose option 6 then option 4) and place request for cattle tagging. Step 2: USGIC team will contact the customer for tagging. Step 3: USGIC team will inspect the cattle heads and complete tagging with veterinary doctor certificate. Step 4: Policy to be issued in system with correct tag numbers as per doctor certificate.

Clarification on Scheme/Non Scheme Cattle Scheme Cattle:

  • On Graded indigenous/ cross bred cattle , various schemes are run by national/state government, where subsidy / assistance are provided as per pre –defined guidelines for promoting cattle and dairy development program.
  • Such schemes will vary as per participating states in a scheme.
  • Customer may ask to respective Panchayat, veterinary doctors or rural bank branches and can obtain details on schemes implemented in their district /states.
  • Submission of document would be as per criteria laid by respective scheme on classification/gradation of cattle

Non- Scheme Cattle: Other than Scheme cattle For ANY OTHER CLARIFICATION CALL ON TOLL FREE NUMBER AT 1800-200-4030

What does this Policy cover?

The Policy covers death caused by:

  • Accident inclusive of Fire, Lightning, Flood, Inundation, Storm, Hurricane, Earthquake, Cyclone, Tornado, Tempest and Famine.
  • Diseases contracted or occurring during the period of this policy, Surgical Operations, Riot & Strike.

Additional benefits:

The Policy also provides cover against Permanent Total disablement suffered by the cattle due to any accident or illness/ailment. Exclusions under the policy: The Policy does not cover the following:

  • Malicious or willful injury or neglect, overloading, unskillful treatment or use of animal for purpose other than stated in the policy.
  • Accidents occurring and/or Disease contracted prior to commencement of risk.
  • Intentional slaughter of the animal except in cases where destruction is necessary to terminate incurable suffering on human consideration on the basis of certificate issued by qualified veterinarian or in cases where destruction is resorted to by the order of lawfully constituted authority.
  • Theft and clandestine sale of the insured animal.
  • War, Invasion, act of foreign enemy, hostilities (whether war be declared or not),civil war, rebellion, revolution, insurrection, mutiny, tumult, military or usurped power or any consequences thereof or attempted threat.
  • Any accident, loss destruction, damage or legal liability directly or indirectly caused by or contributed to by arising from nuclear weapons.
  • Consequential loss of whatsoever nature.
  • Transport by land, air and sea.
  • Death of the animal(s) covered under the policy due to diseases contracted within 15 days from the date of commencement of the risk.

Specific Exclusion

Pleuropneumonia in respect of Cattle and in case of Sheep & Goats Enterotoxaemia, Sheep Pox, Goat Pox, Rinderpest, FMD, Anthrax, H.S, B.Q.. These diseases are covered by the policy if the animal is successfully inoculated (protected) and necessary Veterinary Certificates are supplied to the Company. If the Company asserts that by reason of these Exclusions any Claim is not covered by this Policy, the burden of proving that such Claim is covered shall be upon the Insured.

  • All the claims received after without ear tag.

DOCUMENTS REQUIRED

  • Animal to be tagged – Tags will be provided by USGI
  • Tag number must be incorporated in the Vet Certificate
  • A certificate of good health from panel Veterinary Doctor

For Claim In case of Death/Permanent total Disability:

  • Duly completed claim form
  • Death Certificate/ permanent disability form obtained from qualified veterinarian on Company’s form
  • Postmortem examination/inspection report from qualified veterinarian
  • Ear Tag applied to the animal should be surrender
 
बीमा प्रीमियम:

नवीकरण बीमा प्रीमियम की कंपनी तालिका नीचे दिखाई गई है –

बीमा कंपनी

Aegon Religare
Aviva
Bajaj Allianz
Bharti AXA Life
Birla SunLife
DHFL Life
Future Generali
HDFC Life
ICICI Pru
India First Life
LICI
MAX Life
Reliance Life
Sahara Life
SBI Life Premium
Sriram Life
TATA AIA
insurance_1_5august2016_01

राष्ट्रीय कैरियर सेवा:

श्रम मंत्रालय ने रोजगार से संबंधित सेवाओं के एक प्रकार जैसे नौकरी मिलान , कैरियर परामर्श, व्यावसायिक मार्गदर्शन , सूचना कौशल विकास पाठ्यक्रम, प्रशिक्षु , इंटर्नशिप, आदि पर राष्ट्रीय रोजगार सेवा बदलने के लिए एक मिशन मोड परियोजना के रूप में राष्ट्रीय कैरियर सेवा लागू किया है। 1ऑनलाइन इस सेवा को प्रदान करने के लिए, एक राष्ट्रीय कैरियर सेवा पोर्टल विकसित किया गया है।

1

पैन कार्ड:

एक अल्प राशि के साथ 250 रुपये प्रति दाखिल पर कॉमन सर्विस सेंटर पैन कार्ड दे रहे हैं ।

आयकर रिटर्न (आईटीआर):

वीएलई इस वर्ष भी पूरी सहायता के साथ अपने आयकर रिटर्न दाखिल करने में लोगों की मदद करेंगे ।  उपभोक्ता को केवल केंद्र का दौरा करना होगा और कुछ जानकारी दे और दाखिल करें।

APY – POWER OF ONE (अटल पेंशन योजना):

1विशेषाधिकार प्राप्त और असंगठित क्षेत्र के तहत लोगों और हर नागरिक को एक स्थायी और सुरक्षित बुढ़ापे आय समर्थन प्रदान करने के लिए पीएफआरडीए, भारत सरकार, उद्देश्य के साथ अटल पेंशन योजना शुरू।

ऑनलाइन नर्सिंग आवेदन के दाखिले:

नर्सिंग में प्रवेश के लिए ऑनलाइन नर्सिंग आवेदन । जिसमें सर्विस चार्ज रुपये 25 / – होगा।

जगन्नाथ मंदिर के लिए ऑनलाइन दान:

नागरिक अब सीएससी के माध्यम से जगन्नाथ मंदिर के लिए ऑनलाइन दान का भुगतान कर सकते हैं । सर्विस चार्ज 10 रुपये / – होगा।

फसल बीमा (PMFBY):

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना एक व्यापक उपज आधारित फसल बीमा योजना है जो अप्रत्याशित घटनाओं से उत्पन्न होने वाली फसल हानि / क्षति पीड़ित किसानों को वित्तीय सहायता प्रदान कराती है। यह योजना इन स्थितियों को कवर करेगी – 1. रोका बुवाई / रोपण जोखिम – वर्षा घाटा या प्रतिकूल मौसमी परिस्थितियों के कारण 2. सूखा , सूखी मंत्र , बाढ़, कीट और रोग, प्राकृतिक आग और बिजली , तूफान, चक्रवात , आंधी , तूफान और बवंडर आदि 3. पोस्ट फसल घाटा – चक्रवात और बेमौसम बारिश के विशिष्ट खतरों के खिलाफ 4. स्थानीय आपदाओं – मूसलधार बारिश , जमीन स्लाइड और बाढ़ के कारण

सीएससी – एसपीवी नेटवर्क के माध्यम से फसल बीमा उत्पाद के तहत किसानों को दाखिल करने और किसानों को इस योजना का लाभ प्रदान कराने के लिए बजाज आलियांज जनरल इंश्योरेंस कंपनी को आईआरडीए से मंजूरी मिल गई है।

कौन सीएससी के माध्यम से PMFBY के तहत दाखिला ले सकता है? वे किसान जो ऊपर दिए गए जिलों में कृषि भूमि के मालिक हैं और अधिसूचित फसल बढ़ रही है लेकिन किसी भी वित्तीय संस्था या बैंकों से कृषि ऋण नहीं ले पा रहे है। सीएससी के माध्यम से एक किसान नामांकन प्रक्रिया के लिए इन चरणों का पालन करके PMFBY के तहत उसकी फसल भर्ती कर सकते हैं – • अपने निकटतम उपलब्ध कॉमन सर्विस सेंटर पर जाएं • रैप करने के लिए निम्नलिखित विवरण दें – क। जो फसल वह उगा रहा है उसका नाम ख । विभिन्न फसलों में रकबा ग। अपने क्षेत्र का स्थान ( अधिसूचित क्षेत्र ) • रैप फसल बीमा कड़ी में विवरण दर्ज करेगा और प्रीमियम भुगतान सूचित किया जाएगा • किसान रैप करने के लिए प्रीमियम राशि का भुगतान करेंगे और निम्नलिखित दस्तावेजों की प्रतिलिपि प्रस्तुत करेंगे ए। भूमि दस्तावेज ( जमाबंदी , 7X12 , अधिकार प्रमाण पत्र आदि) ख । बैंक पासबुक का प्रथम पृष्ठ या कैंसल चैक

• रैप प्रणाली में अनिवार्य विवरण दर्ज करेंगे और उपरोक्त दस्तावेज अपलोड करेंगे • रैप को उसके बटुआ के माध्यम से प्रीमियम का भुगतान करना होगा • सफलता से किए जाने पर पॉलिसी जारी हो जाएगी • रैप पॉलिसी दस्तावेज का प्रिंटआउट ले जाएगा और ग्राहक को देगा नामांकन की अंतिम तिथि 2 अगस्त 2016 खरीफ मौसम के लिए पॉलिसी जारी करने से पहले रैप को जाँच करना अनिवार्य है • बीमित किसान के नाम भूमि रिकार्ड और बैंक पास बुक पर दिया गया विवरण • बीमा किया गया क्षेत्र ( हेक्टेयर ) क्षेत्र भूमि रिकॉर्ड में उल्लेख किया है और दिए गए क्षेत्र से अधिक नहीं होना चाहिए • भूमि दस्तावेज गिरवी नहीं हों / किसी भी बैंक या वित्तीय संस्थानों के साथ कोई धोखाधडी न की हो • बैंक खाते का विवरण (खाता संख्या, आईएफएससी कोड आदि) स्पष्ट रूप से पास बुक में दिया गया हो पॉलिसी जारी करने की स्क्रीन (I ) प्रीमियम गणना insurance_1_5august2016_02 जीव आयुर्वेद:

जीव आयुर्वेद के सहयोग से सीएससी जीव आयुर्वेदिक उत्पादों की बिक्री सेवा के शुभारंभ के साथ तैयार है।

jivaजीव आयुर्वेद आयुर्वेदिक उपचार सेवाओं में एक अग्रणी संगठन है और आयुर्वेदिक स्वास्थ्य, सौंदर्य और वेलनेस उत्पादों के निर्माण के लिए जाना जाता है।

जन औषधि ड्रग लाइसेंस:

ड्रग लाइसेंस के लिए आवेदन करना आसान हो गया है। अब जन औषधि दवा लाइसेंस प्राप्त करने के लिए सीएमओ कार्यालय में फार्म जमा करने की कोई जरूरत नहीं है।

बैंकिंग सेवाएं:

सीएससी के माध्यम से लेनदेन: • खाता धारक सीएससी में जाकर उनके फिंगरप्रिंट की पहचान दे सकते हैं। • खाता धारक के खाते से राशि को डेबिट किया जाता है व सीएससी वीएलई उसे एक रसीद देता है। • वीएलई खाता धारक को नकदी देता है। banking_2_july292016_01कृपया ध्यान दें – • किसी भी बैंक का ग्राहक इस तरह नकद निकासी , जमा, प्रेषण आदि के रूप में सेवाओं का लाभ उठा सकता है। • किसी भी बैंकिंग लेनदेन के लिए न्यूनतम राशि 100 रु है। • सीएससी से बैंकिग सेवा उपलब्ध कराने पर एक खाता धारक 10,000 अधिकतम राशि ही निकाल सकता है। • धोखाधड़ी गतिविधियों की संभावना न के बराबर हैं क्योंकि हर लेनदेन आधार द्वारा अधिकृत है।AEPS_other_5aug2016

 

ई- पशु चिकित्सा : पशु चिकित्सा टेली- परामर्श:

सीएससी केन्द्र पालतू जानवर के मालिक के लिए उनकी मदद के लिए उनके समुदायों में टेली पशु चिकित्सकों की सुविधा प्रदान करा सकते हैं। वीएलई पालतू जानवर के मालिक को पशु चिकित्सक के साथ रोगी की जानकारी, अपॉइन्टमेंट निर्धारित कर सकते हैं और डॉक्टर के साथ वीडियो / ऑडियो / टेक्स्ट चैट की सुविधा और डॉक्टर की पर्ची की जांच कर सकते हैं। पशु के रोगग्रस्त भाग की तस्वीर और लघु वीडियो लिंक मालिक द्वारा लिया जा सकता है।मालिक को सीएससी केंद्र का दौरा करना और चिकित्सक की नियुक्ति के लिए पंजीकरण करना होगा। वीडियो गूगल ड्राइव / ड्रॉप बॉक्स लिंक और तस्वीरें को पशु चिकित्सकों की टीम के साथ साझा किया जाएगा ।

पशु चिकित्सा टेली- परामर्श डॉक्टर बामारी का निदान करेंगे और रोगी के लिए सलाह / पर्चे देंगे। विशेषतः डॉक्टर मोबाइल / लैपटॉप पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मालिक से परामर्श करेंगे। डॉक्टर पैनल के निदान / उपचार बाद 30 रुपये के भुगतान करने की जरूरत है। पशु चिकित्सकों का पूल सी एस सी – एसपीवी द्वारा नामित किया है। डॉक्टरों ने रोगियों का प्रबंधन करने के लिए अपने अलग अलग डैशबोर्ड कर रखे होंगे। डॉक्टर फोन के माध्यम से निर्धारित समय पर वीएलई को फोन या वीडियो चैट कर सकते हैं।

पशु चिकित्सकों से परामर्श करने की प्रक्रिया इस प्रकार होगी : 1. किसान द्वारा पशु के रोगग्रस्त भाग की तस्वीर ली जाएगी। 2. किसान सीएससी केंद्र का दौरा करेंगे और चिकित्सक की नियुक्ति के लिए पंजीकरण करेंगे। 3. चित्रों को पशु चिकित्सकों की टीम के साथ साझा किया जाएगा। 4. डॉक्टर वीएलई को रोगी के लिए सलाह / पर्चे भेज देंगे। 5. मोबाइल / लैपटॉप पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से डॉक्टर किसान से परामर्श करेंगे 6. किसान भी अपने मोबाइल नंबर के माध्यम से उसके पशु चिकित्सकों को तस्वीर, वीडियो और जानवर के रोगग्रस्त भाग के विवरण शेयर कर सकते हैं 7. पशु चिकित्सक अपने डैशबोर्ड पर इस मरीज को जोडेंगे और किसान को एक यूनिक संदर्भ नंबर देगें। 8. किसान निकटतम सीएससी केंद्र का दौरा करेगा और उस संदर्भ संख्या पर फीस का भुगतान करेगा 9. वीएलई भुगतान करेगा और भुगतान टोकन नंबर लेगा 10. इस टोकन नंबर को डॉक्टर से शेयर करेगा 11. डॉक्टर, एक वीडियो कॉल या चैट करके दवा लिख सकता है
खाद्य विक्रेताओं / हॉकरों और भोजनालयों के पंजीकरण की सेवा:

सीएससी के माध्यम से खाद्य विक्रेताओं , हॉकरों और खाने वालों के पंजीकरण सक्षम बनाने के लिए सीएससी एसपीवी ने एफएसएसएआई के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। एक सुरक्षित ऑनलाइन तंत्र के माध्यम से सीएससी एक संबल है और विक्रेताओं को पंजीकरण पाने के लिए सहायता करेंगे। वीएलई विक्रेताओं की एफएसएसएआई वेबसाइट पर ऑनलाइन पंजीकरण फार्म भरने के लिए मदद करते हैं और सीएससी वॉलेट के माध्यम से फीस जमा और विक्रेता के लिए तुरंत एक प्रमाणपत्र उत्पन्न करते हैं। वेंडर सीएससी से उत्पन्न एफएसएसएआई पंजीकरण प्रमाण पत्र की मदद से व्यवसाय चलाते हैं।

 

जन्म और मृत्यु प्रमाण पत्र:

देश भर में सीएससी जन्म और मृत्यु पंजीकरण कर रहे है।सीएससी के माध्यम से जन्म और मृत्यु के मामले, जन्म और दत्तक ग्रहण सब दायर किया जा सकता है।

जन्म और मृत्यु प्रमाण पत्र सीएससी के माध्यम से एक असिस्टेड प्रारूप में आवेदन दाखिल करने के लिए 15 / रुपये ले जाते हैं। आवेदन 21 दिन के भीतर दाखिल किया जाएगा। पंजीकरण के विवरण को रजिस्ट्रार द्वारा अनुमोदित किया जा रहा है। यह संदेश उसकी / उसके पंजीकृत ईमेल आईडी पर आवेदक द्वारा प्राप्त किया जाएगा । प्रमाण पत्र का पीडीएफ दस्तावेज़ प्रति आवेदन 10 रुपये / के साथ पास के किसी भी सीएससी से उपलब्ध हो जाएगा।

 

आईआरसीटीसी सेवा:

irctc

 

बैंक खातों में आधार सीडिंग सेवा:

आधार नंबर अनोखा है और एक व्यक्ति के जीवन चक्र पर परिवर्तन नहीं होता है , तो 12 अंक का आधार संख्या एक व्यक्ति के लिए किसी भी भुगतान की अनुमती देने के लिए पर्याप्त है | आज इसी क्रम में लाभार्थी को धन निकालने के लिए सरकार / संस्था के बैंक खाते, आईएफएससी कोड, पता, और बैंक शाखा ब्यौरा आदि की जरूरत है|

aadharआधार कार्ड सरकारी भुगतान भेजने की संभावना प्रदान करता है जिसमें सिर्फ 12 अंक की आधार संख्या का उपयोग करके आप किसी भी बैंक में इस्तेमाल कर सकते है जिससे प्रशासनिक बोझ कम हो जाता है|

error: Content is protected !!